सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

18 करोड़ में बेची अपनी और पत्नी की अस्मत

वृन्दावन। वृन्दावन के प्रसिद्ध भागवत-आचार्य के अश£ील सीडी प्रकरण का मामला गहराता जा रहा है और कई बातें सामने आ रही हैं।। भागवताचार्य ने अपनी पत्नी के साथ अश्लील क्लिपिंग बनाई, वह 18 करोड़ का लालच था।
पता चला है कि पहले चित्रकार के रूप में काम कर चुके इस व्यक्ति ने भागवताचार्य बनने के अपने सफर में धन-दौलम हासिल करने के लिए अनेक हथकण्डे अपनाए हैं। पैसे की चकाचौंध ही थी, जिसके कारण यह लालची भागवत कथावाचक अपनी और अपनी पत्नी सहित अनेक बच्चों के साथ घिनौनी अश£ील वीडियो क्लिपिंग बनाने को राजी हुआ था। पोर्न-किंग के नाम से मशहूर हो चुके इस भागवताचार्य राजेन्द्र ने आस-पास के बच्चों ओर अपने परिवार के बच्चों तक का इस्तेमाल अपनी कामुकता और लालच के लिए कर डाला। और तो और उसने मात्र दो-तीन साल के बच्चों के साथ भी यौन-क्रियाएं करने में कोई संकोच नहीं किया। यह चाइल्ड-पोर्न उसने बच्चों को टॉफी व लॉलीपोप का लालच देकर किया। इतनी कम उम्र में उनकी मासूमियत और अबोधपन को इस भागवत आचार्य ने कामुक क्रीड़ाओं की ओर धकेल कर समूचे समाज को ग्लानि का आभास करवा रहा है और ऊपर से बेशर्मी की हद है कि वह इन्हें अपने निजी क्षण बताने पर तुला हुआ है।
इस प्रकरण के सामने आने के बाद पुलिस भी किसी तरह साइबर वल्र्ड के मालिकों तथा सम्बंधितों को जेल भेजकर मामले का पटाक्षेप करने का प्रयास भी कर रही है। कम्प्यूटर रिपेयर करने वालों को यह भागवत आचार्य अपने निजी दृश्यों को सार्वजनिक बनाने का आरोप जड़कर ब्लेकमेलिंग का दोषी सिद्ध करने में लगा हुआ है। अनेक मोबाईल सेंटरों और इस भागवत कथावाचक के खिलाफ आवाज उठाने वालों को पुलिस उल्टा परेशान करने व दबाने की कोशिश कर रही है।
हिन्दूवादी नेता पं. रमेश पुजारी ने आरोप लगाया है कि क्षेत्रीय पुलिस चौकी के कुछ लोगों ने भागवताचार्यक के साथ सौदा कर लिया है तथा इस मामले में दूसरों को फंसाकर वे भागवताचार्य के गले की हड्डी निकालना चाहते हैं। विद्यापीठ चौराहे के कुछ पुलिसकर्मियों को नामजद करते हुए उन्होंने एएसपी को पत्र भी लिखा है।
भागवताचार्य जिन्हें अपने अंतरंग क्षण बता रहा है, उनमें पशुओं के साथ काम-क्रीड़ा करना और बच्चों को इस ओर धकेलना भी शामिल हो सकता है, यह आश्चर्य की बात है। भागवताचार्य की पत्नी नंगी होकर एक शिशु को अपने नाजुक अंगों को मुख से लगाने के लिए प्रेरित कर रही है तथा उससे ऐसा करने के लिए जबरन प्रयास भी किया जा रहा है। बालिका को नग्र करके उसे कामुकता से घूरना और विदेशी पोर्न अदाकाराओं से भी अधिक कामुकता का प्रदर्शन करने का प्रयास करना कौन से अंतरंग क्षण हो सकते हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बदहाल है लाडनू का अस्पताल

दुर्दशा का शिकार लाडनूं का सौ शैयाओं वाला अस्पताल
लाडनूं। स्थानीय एकसौ शैयाओं वाले राजकीय चिकित्सालय में चिकित्सकों एवं सहायक स्टाफ के रिक्त चल रहे पदों के कारण क्षेत्र के निवासियों को हो रही परेशानियों के मद्देनजर युवक कांग्रेस ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री के नाम का एक ज्ञापन उपखंड अधिकारी नारायणलाल रेवाड़ को सौंपा। युवक कांग्रेस अध्यक्ष हरिराम बुरडक़ के नेतृत्व में दिए गए इस ज्ञापन में बताया गया है कि राजकीय चिकित्सालय में कुल 13 चिकित्सकों के पद रिक्त चल रहे हैं जिनमें शल्य चिकित्सकों के दो पद, निश्चेतन चिकित्सक के दो पद, ऑर्थोपीडिक्स का एक पद, ईएनटी विशेषज्ञ का एक पद, शिशु रोग चिकित्सक का एक पद, मेडिकल ऑफिसर के छरू पद शामिल है। वहीं सहायक स्टाफ में मेल नर्स के तीन पद, महिला नर्स के दो पद व चपरासी के चार पद रिक्त चल रहे हैं। उन्होंने सभी पदों पर सीधे नियुक्ति की मांग की है। इस अस्पताल को लेकर सजग नागरिक मोर्चा के अध्यक्ष जगदीश यायावर, कांग्रेस अभाव अभियोग प्रकोष्ठ के जिला उपाध्यक्ष मुश्ताक खां हाथीखानी, भारतीय माईनोरिटीज सुरक्षा महासंघ के वरिष्ठ प्रदेश उाध्यक्ष मास्टर मो. बिलाल …

नगर पालिका से गायब हो रहे पत्रों को लेकर पार्षद मुखर हुए---- कमेटियों के गठन की स्वीकृति से सम्बंधित डाक हुई गायब

लाडनूं (कलम कला न्यूज)। स्थानीय नगर पालिका में आने वाली डाक को आवक रजिस्टर में दर्ज करने के बजाये उसे पूरी तरह गायब कर दिया जाता है। इसी तरह की हालत के शिकार खुद पालिकाध्यक्ष बच्छराज नाहटा भी हुए, जिनके खुद के नाम की डीएलबी से आई डाक को भी गायब कर दिया गया, खुद ईओ के नाम की डाक भी गायब हो जाना आश्चर्य की बात है। उन्होंने जब पार्षदों को इससे अवगत करवाया तो सभी पार्षदों को यह बुरा लगा तथा बोर्ड की गत 29 अप्रेल की बैठक में मुखर होकर पार्षदों ने इस मामले में आवाज उठाई। समितियों के गठन को लेकर हुआ विवाद व टकराव नगर पालिका मंडल में 31 दिसम्बर की बैठक में समितियों का गठन किया गया, जिसमें अधिशाषी अधिकारी ने 60 दिनों में समितियों का गठन नहीं होने को लेकर आपति दर्ज की, उस पर अध्यक्ष ने बार-बार आदेश दिए जाने के बावजूद ई.ओ. द्वारा बैठक नहीं बुलाकर जानबुझकर देरी करने बाबत प्रति-टिप्पणी दर्ज की। इस कार्यवाही की प्रति नियमानुसार डीएलबी, कलेक्टर, उपनिदेशक अजमेर आदि को भेजी गई। इस के बाद सभी कमेटियों के अध्यक्षों ने ईओ को उनकी समिति की बैठक बुलाने का आग्रह किया, परन्तु बिना डीएलबी की स्वीकृति के ब…

नागौर जिले के लिए बजट-घोषणाएं: मकराना में ओवरब्रिज, सिवरेज लाईन ओर परबतसर तक रेल लाईन

नागौर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य विधानसभा में पेश किए गए बजट में नागौर जिले को कई सौगातें देने की घोषणा की है। कई बड़ी योजनाओं पर काम होने के संकेत भी दिए हैं।
हालांकि इस बजट में नागौर जिले की महत्वपूर्ण नहरी पानी की योजना को छुआ तक नहीं गया है जो यहां के लोगों की सबसे अहम जरूरत है। मकराना व परबतसर शहरों के बीच रेल लाइन डाइवर्जन की घोषणा का तोहफा भी इस बजट में दिया है। बजट में इन प्रावधानों की घोषणा नागौर जिले के लिए की गई है-
1. मकराना से परबतसर रेल लाईन: मकराना क्षेत्र में अब सुरक्षित खनन के लिए परबतसर से मकराना तक रेललाइन डाइवर्जन के लिए सात करोड़ रुपए रेलवे को जमा कराए गए हैं। इस डाइवर्जन से परबतसर को रेल सुविधा से जोड़े जाने के संकेत भी मुख्यमंत्री ने दिए।
2. मकराना व डीडवाना में सिवरेज लाईन: मकराना व डीडवाना में शहरी क्षेत्र में सीवरेज लाइन बिछाने की योजना को मंजूरी। इससे जिले को दोनों महत्वपूर्ण शहरों का कायापलट होने की उम्मीद जगी है।
3. राशन में आटा: नागौर जिला मुख्यालय पर एपीएल परिवारों को फोर्टीफाइड आटा देने की घोषणा। यह योजना हाल ही मेें नागौर में शुरू भी कर दी…