सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सार्वजनिक वितरण प्रणाली में वैट की छूट से हुए गेहूं, चावल, कैरोसीन सस्तेे

सार्वजनिक वितरण प्रणाली में वैट की छूट से हुए गेहूं, चावल, कैरोसीन सस्तेे
नागौर। राज्य सरकार की बजट सत्र 2011-12 की घोषणा के अनुसार सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत मिलने वाले खाद्यान्न में वैट की छूट दी गई है। जिला रसद अधिकारी भेराराम डिडेल ने बताया कि सरकार के बजट सत्र की घोषणा के अनुसार आम व्यक्ति से लेकर चयनीत व्यक्ति तक सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत मिलने वाले खाद्यान्नों में वैट की छूट आदेशों की पालना की गई है। उन्होंने बताया कि एपीएल परिवारों को पूर्व में 7 रूपये प्रति किलोग्राम की दर से मिलने वाला गेहूं 6.70 रू0 प्रति किलोग्राम, विशेष तदर्थ आवंटन में 9.50 रू0 प्रति किलोग्राम की बजाय 9.10 रू0 प्रति किलोग्राम की दर से उपलब्ध करवाया जाएगा। इसी तरह एपीएल चावल 9.50 रू0 प्रति किलोग्राम के स्थान पर 9 रू0 प्रति किलोग्राम और केरोसीन 13.75 रू0 प्रति लीटर के स्थान पर 13.25 रू0 प्रति लीटर के हिसाब से उचित मूल्य की दुकानों के माध्यम से उपलब्ध करवाया जाएगा।
आटा वितरण के लिए अधिकृत
भेराराम डिडेल ने बताया कि खाद्य नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले विभाग के निर्देशानुसार मैसर्स शक्ति एन्टरप्राईजेज प्रा. लि., बाड़मेर रोड़ जोधपुर को आगामी आदेशों तक नागौर जिले में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत आटा वितरण के लिए अधिकृत किया गया है। उन्होंने बताया कि शक्ति एन्टरप्राईजेज द्वारा नागौर शहर के 4082 राशन कार्डो पर 406.60 क्विंटल आटा आपूरित किया जाएगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नगर पालिका से गायब हो रहे पत्रों को लेकर पार्षद मुखर हुए---- कमेटियों के गठन की स्वीकृति से सम्बंधित डाक हुई गायब

लाडनूं (कलम कला न्यूज)। स्थानीय नगर पालिका में आने वाली डाक को आवक रजिस्टर में दर्ज करने के बजाये उसे पूरी तरह गायब कर दिया जाता है। इसी तरह की हालत के शिकार खुद पालिकाध्यक्ष बच्छराज नाहटा भी हुए, जिनके खुद के नाम की डीएलबी से आई डाक को भी गायब कर दिया गया, खुद ईओ के नाम की डाक भी गायब हो जाना आश्चर्य की बात है। उन्होंने जब पार्षदों को इससे अवगत करवाया तो सभी पार्षदों को यह बुरा लगा तथा बोर्ड की गत 29 अप्रेल की बैठक में मुखर होकर पार्षदों ने इस मामले में आवाज उठाई। समितियों के गठन को लेकर हुआ विवाद व टकराव नगर पालिका मंडल में 31 दिसम्बर की बैठक में समितियों का गठन किया गया, जिसमें अधिशाषी अधिकारी ने 60 दिनों में समितियों का गठन नहीं होने को लेकर आपति दर्ज की, उस पर अध्यक्ष ने बार-बार आदेश दिए जाने के बावजूद ई.ओ. द्वारा बैठक नहीं बुलाकर जानबुझकर देरी करने बाबत प्रति-टिप्पणी दर्ज की। इस कार्यवाही की प्रति नियमानुसार डीएलबी, कलेक्टर, उपनिदेशक अजमेर आदि को भेजी गई। इस के बाद सभी कमेटियों के अध्यक्षों ने ईओ को उनकी समिति की बैठक बुलाने का आग्रह किया, परन्तु बिना डीएलबी की स्वीकृति के ब…

नागौर जिले के लिए बजट-घोषणाएं: मकराना में ओवरब्रिज, सिवरेज लाईन ओर परबतसर तक रेल लाईन

नागौर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य विधानसभा में पेश किए गए बजट में नागौर जिले को कई सौगातें देने की घोषणा की है। कई बड़ी योजनाओं पर काम होने के संकेत भी दिए हैं।
हालांकि इस बजट में नागौर जिले की महत्वपूर्ण नहरी पानी की योजना को छुआ तक नहीं गया है जो यहां के लोगों की सबसे अहम जरूरत है। मकराना व परबतसर शहरों के बीच रेल लाइन डाइवर्जन की घोषणा का तोहफा भी इस बजट में दिया है। बजट में इन प्रावधानों की घोषणा नागौर जिले के लिए की गई है-
1. मकराना से परबतसर रेल लाईन: मकराना क्षेत्र में अब सुरक्षित खनन के लिए परबतसर से मकराना तक रेललाइन डाइवर्जन के लिए सात करोड़ रुपए रेलवे को जमा कराए गए हैं। इस डाइवर्जन से परबतसर को रेल सुविधा से जोड़े जाने के संकेत भी मुख्यमंत्री ने दिए।
2. मकराना व डीडवाना में सिवरेज लाईन: मकराना व डीडवाना में शहरी क्षेत्र में सीवरेज लाइन बिछाने की योजना को मंजूरी। इससे जिले को दोनों महत्वपूर्ण शहरों का कायापलट होने की उम्मीद जगी है।
3. राशन में आटा: नागौर जिला मुख्यालय पर एपीएल परिवारों को फोर्टीफाइड आटा देने की घोषणा। यह योजना हाल ही मेें नागौर में शुरू भी कर दी…